Ye Vahi Geet Hai, Jis Ko Maine lyrics

ye vahi geet hai, jis ko maine, dhadakan men basaayaa hai tere honthon se isako churaakar, honthon pe sajaayaa hai ye vahi geet hai, ye vahi geet hai maine ye geet jab gun-gunaayaa, saj gayi hai khayaalon ki mahafil (pyaar ke rang aankhon men chhaaye, muskuraai ujaalon ki mahafil)-2 ye vo naghamaa hai jo zindagi men, roshani banake aayaa hai tere honthon se isako churaakar...... mere dil ne yahi geet gaakar, jab kabhi tujhako aavaaz di hai (phool zulfon men apani sajaakar, tu mere saamane aa gayi hai)-2 tujhe aqsar meri bekhudi ne, seene se lagaayaa hai tere honthon se isako churaakar.......... ********************************* ये वही गीत है, जिसको मैने, धड़कन में बसाया है तेरे होंठों से इसको चुराकर, होंठों पे सजाया है ये वही गीत है, ये वही गीत है मैने ये गीत जब गुन-गुनाया, सज गई है खयालों की महफ़िल (प्यार के रंग आँखों में छाये, मुस्कुराई उजालों की महफ़िल)-२ ये वो नग़मा है जो ज़िंदगी में, रोशनी बनके आया है तेरे होंठों से इसको चुराकर...... मेरे दिल ने यही गीत गाकर, जब कभी तुझको आवाज़ दी है (फूल ज़ुल्फ़ों में अपनी सजाकर, तू मेरे सामने आ गई है)-२ तुझे अक़्सर मेरी बेखुदी ने, सीने से लगाया है तेरे होंठों से इसको चुराकर.......... ------------------------------------------ [submitted on 24-Dec-2008]

Movie Info

    • Singers

      Kishor Kumar
    • Lyricists

      Naqsh Lyallpuri
    • Music Directors

      Jaidev
    • Mood/Type

      Sad

    • Views

      219079

    • Purchase Track