Kabhi Ai Haqiqat-E-Muntazar lyrics

kabhi ai haqiqat-e-muntazar, nazar aa libaas-e-majaaz men ke hazaaron sajade tadap rahe hain, meri jabin-e-niyaaz men kabhi ai haqiqat-e-muntazar, (na bachaa-bachaa ke tu rakh ise)-2, (tera aainaa, hai vo aainaa)-2 (aainaa)-2 na bachaa-bachaa ke tu rakh ise tera aainaa hai vo aainaa ke shikastaa ho to azizatar, hai nigaah-e-aainaa saaz men (na vo ishq men rahin garmiyaan, na vo husn men rahin shokhiyaan)-2 na vo Gazanavi men tadap rahi na vo kham hai zulf-e-aayaaz men kabhi ai haqiqat-e-muntazar, nazar aa libaas-e-majaaz men ke hazaaron sajade tadap rahe hain, meri jabin-e-niyaaz men main jo sar-ba-sajada kabhi huaa, to zamin se aane lagi sadaa teraa dil to hai sanam aashana, tujhe kya milega namaaz men kabhi ai haqiqat-e-muntazar, nazar aa libaas-e-majaaz men ke hazaaron sajade tadap rahe hain, meri jabin-e-niyaaz men ****************************************** कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र, नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में के हज़ारों सजदे तड़प रहे हैं, मेरी जबीन-ए-नियाज़ में कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र, (न बचा-बचा के तू रख इसे)-२, (तेरा आईना, है वो आईना)-२ (आईना)-२ न बचा-बचा के तू रख इसे तेरा आईना है वो आईना के शिकस्ता हो तो अज़ीज़तर, है निगाह-ए-आईना साज़ में (न वो इश्क़ में रहीं गर्मियाँ, न वो हुस्न में रहीं शोख़ियाँ)-२ न वो ग़ज़नवी में तड़प रही न वो खम है ज़ुल्फ़-ए-आयाज़ में कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र, नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में के हज़ारों सजदे तड़प रहे हैं, मेरी जबीन-ए-नियाज़ में मैं जो सर-ब-सजदा कभी हुआ, तो ज़मीं से आने लगी सदा तेरा दिल तो है सनम आशना, तुझे क्या मिलेगा नमाज़ में कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र, नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में के हज़ारों सजदे तड़प रहे हैं मेरी जबीन-ए-नियाज़ में [submitted on 24-Apr-08]

Movie Info

    • Singers

      Lata Mangeshkar & Chorus
    • Lyricists

      Raja Mehdi Ali Khan
    • Music Directors

      Madan Mohan
    • Mood/Type

      Qawaali

    • Views

      219336

    • Purchase Track