Ayee Milan Ki Bela -1964

Ayee Milan Ki Bela -1964

Movie Info

    • Singers

      Lata Mangeshkar

    • Lyricists

      Hasrat Jaipuri

    • Music Director

      Shanker Jai Kishan

    • Mood/Type

      Sad

    • Views

      231057

    • Purchase Track

Tumhe Aur Kya dun main dil ke sivaay Lyrics

[tumhen aur kyaa duun main dil ke sivaay 
tum ko hamaari umar lag jaaye 
tum ko hamaari umar lag jaaye]-2 

muraaden ho puri, saje har tamanna
muhabbat ki duniya ke, tum chaand ban na
bahaaron ki manzil pe, hasana hasaana
khushi mein hamaari bhi, aawaaz sun na
kabhi zindagi mein koi Gham na aaye
tum ko hamaari umar lag jaaye-2 
tumhen aur kya dun main dil ke sivaay 
tum ko hamaari umar lag jaaye-2 
 

mujhe jo khushi hai, tumhen kya bataaun
bhala dil ki dhadkan ko, kaise chhipaaun
kahin ho na jaaun, khushi se main paagal
tumhen dekh kar, aur bhi muskuraaun
Khuda dil jalon ki, nazar se bachaaye
tum ko hamaari umar lag jaaye-2 
tumhen aur kya dun main dil ke sivaay 
tum ko hamaari umar lag jaaye-2 
 

sitaaron se uncha ho, rutaba tumhaara
bano tum har ik zindagi, ka sahaara
tumhen jis se ulfat ho, mil jaaye tum ko
samajh lo hamaari, du'a ka ishaara
muqaddar tumhaara, sada jag magaaye
tum ko hamaari umar lag jaaye-2
tumhen aur kya dun main dil ke sivaay 
tum ko hamaari umar lag jaaye-2 

*****************************************

[तुम्हें और क्या दूँ मैं दिल के सिवाय 
 तुम को हमारी उमर लग जाये 
 तुम को हमारी उमर लग जाये]-२ 

 मुरादें हों पूरी, सजे हर तमन्ना
 मुहब्बत की दुनिया के, तुम चाँद बनना
 बहारों की मंज़िल पे, हँसना हसाना
 ख़ुशी में हमारी भी, आवाज़ सुनना
 कभी ज़िंदगी में कोई ग़म न आये
 तुम को हमारी उमर लग जाये-२ 
 तुम्हें और क्या दूँ मैं दिल के सिवाय 
 तुम को हमारी उमर लग जाये-२ 
 

 मुझे जो ख़ुशी है, तुम्हें क्या बताऊँ
 भला दिल की धड़कन को, कैसे छिपाऊँ
 कहीं हो न जाऊँ, ख़ुशी से मैं पागल
 तुम्हें देख कर, और भी मुस्कुराऊँ
 ख़ुदा दिलजलों की, नज़र से बचाये
 तुम को हमारी उमर लग जाये-२ 
 तुम्हें और क्या दूँ मैं दिल के सिवाय 
 तुम को हमारी उमर लग जाये-२ 
 

 सितारों से ऊँचा हो, रुतबा तुम्हारा
 बनो तुम हर इक ज़िंदगी, का सहारा
 तुम्हें जिस से उल्फ़त हो, मिल जाये तुम को
 समझ लो हमारी, दु'आ का इशारा
 मुक़द्दर तुम्हारा, सदा जगमगाये
 तुम को हमारी उमर लग जाये-२
 तुम्हें और क्या दूँ मैं दिल के सिवाय 
 तुम को हमारी उमर लग जाये-२ 

*****************************************
[Submitted on 25-May-2011]

Advertisement