Aadmi Sadak Ka - 1977

Aadmi Sadak Ka - 1977

Movie Info

    • Singers

      Mohammad Rafi & Chorus
    • Lyricists

      Verma Malik
    • Music Directors

      Ravi
    • Mood/Type

      Qawaali

    • Views

      240839

    • Purchase Track

Aaj Mere Yaar Ki Shadi Hai lyrics

[amir se hoti hai, garib se hoti hai door se hoti hai, qarib se hoti hai magar jahaan bhi hoti hai, ai mere dost shaadiyaan to naseeb se hoti hai] rafi \: (aaj mere yaar ki shaadi hai)-2 yaar ki shaadi hai, mere diladaar ki shaadi hai (aaj mere yaar ki shaadi hai)-2 lagataa hai jaise saare sansaar ki shaadi hai aaj mere yaar ki...... vaqt hai khubasurat, bada shubh lagan muhurat dekho kya khub jachi hai, dulhen ki bholi surat dulhen ki bholi surat khushi se jhoomen hai man, mila sajani ko saajan kaise sanjog mile hain, choli se bandh gaya daaman choli se bandh gaya daaman ek maasoom kali se mere gulazaar ki shaadi hai aaj mere yaar ki shaadi hai \-2 devan \: o sun mere dilajaani,teri jiye jawaani shuru ab hone lagi hai, nai teri zindagaani nai teri zindagaani khushi se kyon itaraae ahaa aaj tu hamen nachaae vaqt vo aane vaala o ho dulhaniya tujhe nachaae dulhaniya tujhe nachaae rafi \: kisi ke sapanon ke solah singaar ki shaadi hai aaj mere yaar ki shaadi hai \-2 (taare tod-tod laaun tere sahare ko sajaaun phool raahon men bichhaaunga main pyaar ke)-2 aaj lunga main balaaen, dungaa dil se duaaen Daal gale men baahen ab yaar ke ek chaman se dekho aaj bahaar ki shaadi hai (aaj mere yaar ki shaadi hai)-2 yaar ki shaadi hai mere diladaar ki shaadi hai (aaj mere yaar ki shaadi hai)-2 lagata hai jaise saare sansaar ki shaadi hai aaj mere yaar ki shaadi hai...... ********************************* [अमीर से होती है, गरीब से होती है दूर से होती है, क़रीब से होती है मगर जहाँ भी होती है ऐ मेरे दोस्त शादियाँ तो नसीब से होती है] रफ़ी \: (आज मेरे यार कि शादी है)-२ यार की शादी है, मेरे दिलदार की शादी है (आज मेरे यार कि शादी है)-२ लगता है जैसे सारे संसार की शादी है आज मेरे यार कि...... वक़्त है ख़ूबसूरत, बड़ा शुभ लगन मुहूरत देखो क्या ख़ूब जची है, दूल्हें की भोली सूरत दूल्हें की भोली सूरत ख़ुशी से झूमें है मन, मिला सजनी को साजन कैसे संजोग मिले हैं, चोली से बँध गया दामन चोली से बँध गया दामन एक मासूम कलि से मेरे गुलज़ार की शादी है आज मेरे यार कि शादी है \-२ देवन \: ओ सुन मेरे दिलजानी,तेरी जिये जवानी शुरू अब होने लगी है, नई तेरी ज़िन्दगानी नई तेरी ज़िन्दगानी ख़ुशी से क्यों इतराए अहा आज तू हमें नचाए वक़्त वो आने वाला ओ हो दुल्हनिया तुझे नचाए दुल्हनिया तुझे नचाए रफ़ी \: किसी के सपनों के सोलह सिंगार की शादी है आज मेरे यार कि शादी है \-२ (तारे तोड़\-तोड़ लाऊँ तेरे सहरे को सजाऊँ फूल राहों में बिछाऊँगा मैं प्यार के)-२ आज लूँगा मैं बलाएँ दूँगा दिल से दुआएँ डाल गले में बाँहें अब यार के एक चमन से देखो आज बहार की शादी है (आज मेरे यार कि शादी है)-२ यार की शादी है मेरे दिलदार की शादी है (आज मेरे यार कि शादी है)-२ लगता है जैसे सारे संसार की शादी है आज मेरे यार कि शादी है...... -------------------------------------------------- [submitted on 01-Dec-2008]