Jin Raaton Ki Bhor Nahin Hai lyrics

jin raaton ki bhor nahin hai aaj aisi hi raat aai jo jis gham men doob gayaa hai saagar ki hai gaharaai raat ke taaron tum hi bataao meri vo manzil hai kahaan paagal banakar jisake liye main kho baithaa hun dono jahaan jin raaton ki bhor nahin hai .... raah kisi ki hui naa roshan jalanaa meraa bekaar gayaa loot gai taqadeer mujhe, main jeet ke baazii haar gayaa jin raaton ki bhor nahin hai .... ***************************************** जिन रातों की भोर नहीं है आज ऐसी ही रात आई जो जिस ग़म में डूब गया है सागर की है गहराई रात के तारों तुम ही बताओ मेरी वो मंज़िल है कहाँ पागल बनकर जिसके लिये मैं खो बैठा हूँ दोनो जहाँ जिन रातों की भोर नहीं है .... राह किसी की हुई ना रोशन जलना मेरा बेकार गया लूट गई तक़दीर मुझे मैं जीत के बाज़ी हार गया जिन रातों की भोर नहीं है .... [submitted:10-Mar-2008]