Saanjh Aur Savera - 1964

Saanjh Aur Savera - 1964

Movie Info

    • Singers

      Mohammad Rafi & Aasha
    • Lyricists

      Hasarat Jaipuri
    • Music Directors

      Shankar JaiKishan
    • Mood/Type

      Love Song

    • Views

      218890

    • Purchase Track

Yehi Hai Voh Saanjh Aur Savera lyrics

Rafi:
yahi hai vo saanjh aur saveraa \-2
jisake lie tadape ham saaraa jeevan bhar
yahi hai vo saanjh aur saveraa 

Aasha:
yahi hai vo saanjh aur saveraa \-2
jisake lie tadape ham saaraa jeevan bhar
yahi hai vo saanjh aur saveraa 

Aasha:
llallalaa lalaa..

Rafi:
janam-janam se andheraa thaa meri raahon men
ye baat kab thi bhalaa madabhari fizaaon men
sabaa bahaar ke dole men tumako laai hai
ke aaj saari khudaai hai meri baanhon men
chalaa gayaa Gham kaa vo andheraa
milan hua pyaar kaa sunaharaa
jisake lie tadape......

Aasha:
llallalaa lalaa..

Rafi:
llallalaa lalaa..

Aasha:
tumhin chhupe the meri zindagi ke darpan men
tumhaaraa pyaar sametaa hai apane daaman men
jale hain pyaar ke deepak banaa dhuan kaajal
khile hain phool tamannaa ke dil ke aangan men
milaa mujhe saath sang teraa
chamak uthaa ab naseeb meraa
jisake lie tadape.......

Both:yahi hai vo saanjh aur saveraa \-2
jisake lie tadape ham saaraa jeevan bhar
yahi hai vo saanjh aur saveraa 

Aasha:
llallalaa lalaa..

Rafi:
llallalaa lalaa..

Rafi:
meri palak pe tumhaari palak kaa saayaa hai
zabaan-e-dil pe tumhaaraa hi naam aayaa hai
nisaar aisi Khushi par hamaari saari umar
zameen ke chaand ko apane gale lagaayaa hai
tumane rang pyaar kaa woh pheraa
nikhar gayaa aasamaan kaa cheharaa
jisake lie tadape ......

Both: yahi hai vo saanjh aur saveraa \-2
jisake lie tadape ham saaraa jeevan bhar
yahi hai vo saanjh aur saveraa 
***************************************
रफ़ी:
यही है वो साँझ और सवेरा \-२
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो साँझ और सवेरा 

आशा:
यही है वो साँझ और सवेरा \-२
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो साँझ और सवेरा 

आशा:
ल्लल्लला लला..

रफ़ी :
जनम-जनम से अँधेरा था मेरी राहों में
ये बात कब थी भला मदभरी फ़िज़ाओं में
सबा बहार के डोले में तुमको लाई है
के आज सारी ख़ुदाई है मेरी बाँहों में
चला गया ग़म का वो अन्धेरा
मिलन हुआ प्यार का सुनहरा
जिसके लिए तड़पे......

आशा:
ल्लल्लला लला..

रफ़ी:
ल्लल्लला लला..

आशा:
तुम्हीं छुपे थे मेरी ज़िन्दगी के दर्पण में
तुम्हारा प्यार समेटा है अपने दामन में
जले हैं प्यार के दीपक बना धुआँ काजल
खिले हैं फूल तमन्ना के दिल के आँगन में
मिला मुझे साथ संग तेरा
चमक उठा अब नसीब मेरा
जिसके लिए तड़पे.......

दोनों: यही है वो साँझ और सवेरा \-२
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो साँझ और सवेरा 

आशा:
ल्लल्लला लला..

रफ़ी:
ल्लल्लला लला..

रफ़ी:
मेरी पलक पे तुम्हारी पलक का साया है
ज़बान-ए-दिल पे तुम्हारा ही नाम आया है
निसार ऐसी ख़ुशी पर हमारी सारी उमर
ज़मीं के चाँद को अपने गले लगाया है
तुमने रंग प्यार का वोह फेरा
निखर गया आसमाँ का चेहरा
जिसके लिए तड़पे ......

दोनों: यही है वो साँझ और सवेरा \-२
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो साँझ और सवेरा 

[submitted on 06-Mar-2008]

Advertisement