Kabhi Kisi Ko Mukammal Jahaan lyrics

kabhi kisi ko mukammal jahaan nahin milataa kahin zamin to kahin aasamaan nahin milataa jise bhi dekhiye vo apane aap men gum hai zubaan mili hai magar hamazubaan nahin milataa kabhii kisi ko mukammal...... bujhaa sakaa hai bhalaa kaun vaqt ke shole ye aisi aag hai jisame dhuaan nahin milataa kabhi kisi ko mukammal...... tere jahaan men aisaa nahin ki pyaar na ho jahaan ummid ho isaki, vahaan nahin milataa kabhi kisi ko mukammal...... ******************************** कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता कहीं ज़मीन तो कहीं आसमान नहीं मिलता जिसे भी देखिये वो अपने आप में गुम है ज़ुबाँ मिली है मगर हमज़ुबाँ नहीं मिलता कभी किसी को मुकम्मल...... बुझा सका है भला कौन वक़्त के शोले ये ऐसी आग है जिसमे धुआँ नहीं मिलता कभी किसी को मुकम्मल...... तेरे जहाँ में ऐसा नहीं कि प्यार न हो जहाँ उम्मीद हो इसकी, वहाँ नहीं मिलता कभी किसी को मुकम्मल......